एमबीबीएस की सीटें मप्र में 218 फीसदी बढ़ेंगी

0
7

भोपाल। विभागीय बजट की अनुदान मांगों पर उत्तर देते हुए संस्कृति, चिकित्सा शिक्षा एवं आयुष मंत्री डॉ. विजयलक्ष्मी साधौ ने बताया कि अगले तीन वित्तीय वर्ष में  प्रदेश में एमबीबीएस की 218 फ ीसदी सीटें बढ़ाई जा रही हैं। वर्तमान में प्रदेश में एमबीबीएस की 1350 सीट हैं। मौजूदा वित्तीय वर्ष 2019-20 में इन्हें बढ़ाकर 1920 किया जा रहा है। वर्ष 2020-21 में यह 2276 और 2021-22 में 2951 हो जाएंगी। इस तरह सरकार 218 प्रतिशत एमबीबीएस की सीट बढ़ा रहा है। इसके अलावा मंत्री ने बताया कि लता मंगेशकर अवार्ड को विश्व स्तरीय बनाया जा रहा है। जनजातीय संस्कृति के संरक्षण के लिए डिंडौरी, श्योपुर एवं छिंदवाड़ा में बैगा, सहरिया और भारिया के संस्कृति संदर्भो की स्थापना की जाएगी और साहित्यकारों की मासिक आय भी बढ़ाई जाएगी। तीनों विभागों का बजट ध्वनिमत से पारित किया गया।

मंत्री ने बताया कि सरकार किशोर कुमार स्मृति समारोह मनाने खंडवा में संग्रहालय बना रही है और चंदेरी में बैजूबावरा के नाम से समारोह होगा। पहली बार निमाड़, मालवा, बुंदेलखंड, बघेलखंड और चंबल में क्षेत्रीय संस्कृति आधारित संग्रहालयों की स्थापना होगी, तो मांडू में भील जनजातीय केंद्र की स्थापना की जाएगी।

उन्होंने सदन को बताया कि गुरुनानक देव का 550 वें जन्म समारोह और महात्मा गांधी के 150वें जन्म वर्ष में प्रदेशभर में कार्यक्रम होंगे। साहित्य के क्षेत्र में डॉ. शिवमंगल सिंह सुमन, दुष्यंत कुमार, बाल कवि बैरागी और विठ्ठल भाई पटेल के नाम सेअलग-अलग नए पुरस्कार दिए जाएंगे।

भारत भवन में रिसर्च, डाक्यूमेंटेशन और प्रिजर्वेशन कार्य भी होंगे। भीमबैठिका के शैलाश्रयों की खोज करने वाले डॉ. वीएस वाकणकर के नाम से पुरस्कार और फैलोशिप दी जाएगी। टंट्या भील स्मारक बड़ौदा अहीर, भीमा नायक स्मारक धावाबावड़ी, आजाद स्मृति मंदिर भाबरा तथा शहीद भवन को अपग्रेड कर विकास किया जाएगा।

बनेंगे आयुष ग्राम

आयुष के बजट पर मंत्री डॉ. साधौ ने कहा कि सभी जिलों में पंचकर्म की सुविधा करने जा रहे हैं। अभी 30 अस्पतालों में है। मेडिकल टूरिज्म को बढ़ावा दिया जाएगा। प्रदेश में आयुष ग्राम बना रहे हैं। इससे 37 हजार परिवार जुड़ेंगे। इन ग्रामों में लोगों को जड़ी-बूटियों से परिचित कराने प्रदर्शनियां लगाई जाएंगी। उन्होंने कहा कि सतना में चिकित्सा महाविद्यालय को मंजूरी मिली है। विभागों की चर्चा में अजय विश्नोई ने आयुष और चिकित्सा शिक्षा विभाग के कटौती प्रस्ताव रखे। उन्होंने चिकित्सकों व नर्सों की संख्या बढ़ाने की मांग रखी। साथ ही मेडिकल कॉलेजों का बजट कम करने का विरोध किया।

इसके अलावा आयुष में मनमानी के आरोप भी लगाए। हरिशंकर खटीक ने आयुर्वेद, होम्योपैथी और यूनानी चिकित्सकों के वेतन ऐलोपैथी चिकित्सकों के समान करने की मांग रखी। चर्चा में राजेंद्र पांडे,

प्रवीण पाठक, झूमा सोलंकी, डॉ. हीरालाल अलावा, केदार शुक्ला, फुं देलाल मार्कों आदि ने भाग लिया।

किस विभाग को कितना मिला बजट

बजट अनुदान मांगों पर चर्चा के बाद डॉ साधौ के तीनों विभाग के बजट मंजूर हुए। इनमें संस्कृति के लिए 226 करोड़ 13 लाख 22 हजार, आयुष के लिए 481 करोड़ 40 लाख 24 हजार व चिकित्सा शिक्षा के लिए 2301 करोड़ 76 लाख 39 हजार रुपए का बजट शामिल है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here