विक्रम विवि में कुलपति चयन को लेकर कुलाधिपति के फैसले को चुनौती देने वाली याचिका पुन: खारिज

0
11

भोपाल। हाईकोर्ट की इंदौर डिवीजन बैंच ने विक्र म विश्वविद्यालय में कुलपति के पद पर प्रो. बालकृष्ण शर्मा की नियुक्ति को चुनौती देने वाली याचिका को खारिज कर दिया है। इसके बाद प्रो.शर्मा ही इस पद पर बने रहेंगे। कुलाधिपति श्रीमती आनंदी बेन पटेल ने  विवि में प्रो.बालकृष्ण शर्मा को कुलपति नियुक्त किया था। न्यायालय ने कुलाधिपति के इस फैसले को सही ठहराया।

गौरतलब है,कि राज्य शासन द्वारा इंदौर व उज्जैन विक्रम विश्वविद्यालयों में धारा 52 लागू कर वहां के कुलपतियों को हटा दिया था। उज्जैन के विक्रम विश्वविद्यालय में कुलपति की नियुक्ति को लेकर राज्य शासन की ओर से तीन नामों के पैनल पेश कर इनमें से किसी एक की नियुक्ति उक्त पद पर करने की सिफारिश की थी,लेकिन कुलाधिपति ने इसे ठुकरा दिया और प्रो. शर्मा को विक्रम विवि का कुलपति नियुक्त किया था। उक्त पैनल में शामिल इंदौर के डॉ.एसएल गर्ग ने कुलाधिपति के इस फैसले को हाईकोर्ट में चुनौती दी। इसमें उन्होंने कहा,कि कुलपति नियुक्ति के मामले में कुलाधिपति को दिए गए पैनल में से किसी एक नाम पर विचार कर कुलपति का चयन करना था। पैनल से बाहर किसी अन्य नाम पर विचार किए जाने से पूर्व राज्य शासन ने विचार-विमर्श किया जाना था ,लेकिन नियमों के विपरीत कुलाधिपति ने डॉ. शर्माको कुलपति बनाया है, जिनका नाम पेनल में नहीं था। न्यायालय की सिंगल बैंच ने गत 9 जुलाई को इस मामले की सुनवाई की व कुलाधिपति के निर्णय को सही ठहराते हुए डॉ.गर्ग की याचिका को खारिज  कर दिया था। इसके खिलाफ वह डिवीजन बैंच में गए,लेकिन गुरुवार को यहां भी उनकी याचिका को खारिज कर दिया गया। इसके साथ ही प्रो.शर्मा के कुलपति बने रहने का रास्ता साफ हो गया है। कुलाधिपति कार्यालय की ओर से मामले की पैरवी पूर्व महाधिवक्ता पुष्पेन्द्र कौरव ने की।

इंदौर के डीएविवि में कुलपति की नियुक्ति शीघ्र

हाईकोर्ट की डिवीजन बैंच के उक्त निर्णय के बाद इंदौर के देवी अहिल्या विवि में भी कुलपति के नियुक्ति शीघ्र होने के आसार हैं। राज्य शासन ने इस विवि में धारा 52 लागू कर कुलपति के नियुक्ति के लिए तीन नामों का पैनल भेजा था। इसे भी कुलाधिपति ने लौटा दिया,हालांकि अभी इंदौर विवि में कुलपति की नियुक्ति नहीं की गई है। कुलाधिपति श्रीमती आनंदी बेन पटेल 26 जुलाई को वापस भोपाल आएंगी। इसके बाद ही यह नियुक्ति होने के आसार  हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here